₹4500 करोड़ का घाटा हुआ, सरकारी मदद बिना होगा और ₹15,000 करोड़ का घाटा: आईएनएस

इंडियन न्यूज़पेपर सोसायटी (आईएनएस) ने सरकार से अखबार उद्योग को राहत देने की मांग की है। बतौर सोसायटी, उद्योग को दो महीनों में ₹4,000-4,500 करोड़ का नुकसान हुआ है और सरकारी मदद के बिना छह-सात महीनों में ₹15,000 करोड़ का नुकसान हो सकता है। बतौर आईएनएस, दो साल तक कर राहत और न्यूजप्रिंट पर 5% कस्टम ड्यूटी हटाई जानी चाहिए। 

आप हमें फ़ेसबुकट्विटरटेलीग्राम और व्हाट्सप्प पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.