छत्तीसगढ़ : आखिर क्यों राज्य की सीमा पर प्रवासी मजदूरों को रोक रहे पुलिसकर्मी ?

लॉकडाउन और कोरोना संकट के बीच दूसरे राज्यों से छत्तीसगढ़ लौटने वालों के लिए राज्य सरकार ने ई-पास अनिवार्य कर दिया है. जो लोग बिना ई-पास के आ रहे हैं उन्हें सीमा पर ही रोका जा रहा है. हर दिन लगभग दो-ढाई हजार लोग महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, ओडिशा, झारखंड से छत्तीसगढ़ की सीमा पर पहुंच रहे हैं और प्रवेश की अनुमति नहीं मिलने पर परेशान हो रहे हैं.

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि इन लोगों ने यात्रा शुरू करने से पहले अपने जिला कलेक्टर से अनुमति ली थी लेकिन राज्य में उनको यह कहकर प्रवेश नहीं दिया जा रहा है कि उनके पास राज्य सरकार द्वारा जारी ई-पास नहीं है. उनको छत्तीसगढ़ के जिस जिले में जाना है वहां के कलेक्टर से भी ई-पास लेना होगा.

इस मामले को लेकर राज्य के अफसरों का कहना है कि छत्तीसगढ़ आने के लिए राज्य सरकार से अनुमति लेना जरूरी है. वहीं, राज्य की सीमा पर फंसे लोगों का कहना है कि उन्होंने पहले छत्तीसगढ़ के ई-पास के लिए आवेदन किया था लेकिन उनका अनुरोध रद्द कर दिया गया और इस संबंध में कोई जानकारी भी नहीं दी गई. वही, लोगों ने कहा कि इसके बाद उन्होंने स्थानीय जिला कलेक्टर के पास आवेदन किया. अनुमति मिलने के बाद वे छत्तीसगढ़ के लिए निकल पड़े लेकिन अपने ही राज्य की सीमा पर रोक दिए गए. हालांकि, सूत्रों के अनुसार पड़ोसी राज्यों में संक्रमण की स्थिति देखते हुए राज्य सरकार ने कलेक्टरों को किसी भी हाल में दूसरे राज्यों से आने वालों को छत्तीसगढ़ की सीमा में प्रवेश नहीं करने का अघोषित आदेश दे रखा है.

आप हमें फ़ेसबुकट्विटरटेलीग्राम और व्हाट्सप्प पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.