Exclusive: स्वास्थ्य विभाग की बड़ी लापरवाही: सूरदास बने बैठे अपने राग अलाप रहे, देश के महामारी सुरक्षा नियमों की सरे आम उड़ा रहे धज्जियाँ, नियम बोध कराने पर कह रहे “छोड़ो न होता है क्या करोगे” ये है जिले के मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी, टू नाट सेम्पल और पीपीई किट को खुले मे फेंका


द भारत लाइव।कबीरधाम
 देश में कोरोना महामारी को लेकर जहां रोज़ कड़े नियम बनाये जा रहे है वही इन नियमो का पालन करना तो दुर नियमो की जानकारी तक नही जिले के स्वास्थ्य अधिकारी को। जिले मे कोरोना संक्रमण की जाँच और आम जन को सुरक्षा देने हेतु जिला अस्पताल के पीछे टू नाट टेस्ट सेंटर की स्थापना की गयी है लेकिन यहाँ के वरिष्ठ जवाबदार अधिकारी को यह तक नही पता के जाँच के दौरान लिए गये सेम्पल और पीपीई किट को डिस्पोस कब और केसे करना है।

विगत कई दिनों से लगातार लिए जा रहे सेम्पल और उपयोग मे लाये गये पीपीई किट को खुले मे ही फेंक दिया गया है जबकि सेम्पल जाँच के उपरांत तुरंत उसे डिस्पोस करने की प्रक्रिया होती है लेकिन एक सप्ताह से ऊपर इस संक्रमण फैलाते चीजों की किसी को सुध नही है। इस तरह के बड़े अक्षमिनिय लापरवाही से अधिकारी केवल सूरदास की तरह अपने नियमो का राग ही अलापते नज़र आ रहे है।

वही जिले के मुख्य अधिकारी से बात करते हुए जब उन्हें इस बात की जानकारी दी गयी तो उनके द्वारा छोड़ो ना यार होता है क्या कर सकते है मुझे इस बात की जानकारी नही है और भी बहुत से काम होते है इतना कहकर फोन रख दिया गया। एक ओर जहां संक्रमण तेज़ी से शहर मे फैल रहा है वही दूसरी तरफ़ वरिष्ठ अधिकारियों की इतनी बड़ी लापरवाही सुरक्षा व्यवस्था की सिर्फ़ खना पूर्ति कर्ते नज़र आ रही है । 

आप हमें फ़ेसबुकट्विटरटेलीग्राम और व्हाट्सप्प पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.