सुर्खियों में मेकाहारा : नर्स ने पहले कोरोना वैक्सीन के नाम पर लूटा, और अब अस्पताल में फर्जी नौकरी दिलाकर बेरोजगारों से की वसूली.. प्रबंधन को खबर तक नहीं

रायपुर ( द भारत लाइव ) : कोरोना वैक्सीन के नाम पर मरीजों से अवैध वसूली करने वाली मेकाहारा की स्टाफ नर्स दीपादास का एक और नया कारनामा सामने आया है। मामला यह है की दीपादास ने वार्ड गर्ल, वार्ड बॉय और सुपरवाइजर के पद पर नौकरी लगाने के नाम पर दुर्ग, बेमेतर, गरियाबंद, आरंग और पाटन इलाके के बेरोजगारों से करीब 5-5 लाख रुपए की वसूली की है। चौकाने वाली बात यह है कि पैसे लेने के बाद उसने अस्पताल में करीब 8 महीने ड्यूटी भी करवाया और प्रबंधन को कानोकान खबर भी नहीं लगी। अब सभी पीड़ित एफआईआर करवाने के लिए भटक रहे हैं।

बता दे कि राजधानी रायपुर में कोरोना वैक्सीन लगाने के नाम पर अवैध वसूली के मामले में पुलिस ने मेकाहारा की स्टाफ नर्स के पति को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। बताया जा रहा है कि गैंग के लोग कोरोना मरीजों को टीका लगाने की बात कहकर झांसे में लेते ​थे और 10 से 11 हजार रुपए वसूल लेते थे। जानकारी यह भी है कि गैंग के लोगों को मेकाहारा अस्पताल से मरीजों की लिस्ट मिलती थी, जिसके बाद वे फोन पर उन्हें अपनी जाल में फंसाते थे। फिलहाल पुलिस आरोपी से पूछताछ कर रही है।

आप हमें फ़ेसबुकट्विटरटेलीग्राम और व्हाट्सप्प पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.