दूसरे प्रांतों से आने वाले हर व्यक्ति की स्वास्थ्य जांच अनिवार्य

सीमा पर स्वास्थ्य विभाग की टीम तैनात, लू के बचाव के प्रबंध करने के भी निर्देश

कवर्धा, 08 मई 2020। कलेक्टर श्री अवनीश कुमार शरण ने कबीरधाम जिले की सीमा में अन्य राज्यों से आने वाले प्रवासी मजदूर अथवा अन्य व्यक्ति का स्वास्थ्य परीक्षण अनिवार्य कर दिया है। सीमाओं पर स्वास्थ्य विभाग की टीम तैनात है। उनकी जांच के बाद ही उन्हें प्रवेश दिया जाकर आगे की कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी।

कबीरधाम जिले की सीमा पर लगे प्रमुख चेकपोस्ट राष्ट्रीय राजमार्ग चिल्फी-धवाईपानी, कवर्धा-जबलपुर मार्ग, दशरंगपुर कवर्धा-रायपुर मार्ग,नरोधी कवर्धा-राजनांदगांव मार्ग,पोलमी कवर्धा-अमरकंटक डिडौरी जिला मार्ग, कापादाह, महका, और कुण्डा, कवर्धा मुंगेली एव बेमेतरा जिला मार्ग और इसके अलावा अन्य छोटी प्रमुख ट्रक या बस से उतरने वालों मार्गों का चिन्हांकन कर लिया गया है।

कलेक्टर ने उन सभी स्थलों पर प्रवासी श्रमिकों और अन्य नागरिकों से परस्पर एक मीटर की दूरी बनाते हुए स्वास्थ्य टीम के द्वारा कोविड के लक्षणों और थर्मल गन से तापमान की जाँच के लिए आवश्य दिशा-निर्देश दिए है। कलेक्टर श्री शरण और जिला पंचायत सीईओ श्री विजय दयाराम के ने जिले में कोरोना वायरस के रोकथाम और उनके बचाव के उपयों को लेकर पंडरिया विकासखण्ड की तैयारियों के लिए बनाए गए रहे राहत शिविर,क्वारेटाईन सेन्टर और पोलमी चेक पोस्ट का अवलोकन किया। निरीक्षण में पंडरिया एसडीएम श्री प्रकाश टंडन, जनपद सीईओ श्री नवीन भट् एवं अन्य अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।

चेकपोस्ट में स्क्रीनिंग एरिया का चिन्हांकित, कोरोना के साथ-साथ लू से बचाने के निर्देश

कलेक्टर श्री शरण के निर्देश पर उन सभी चिन्हांकित स्थलों पर इसके लिए अलग से स्क्रीनिंग एरिया चिन्हांकित कर लिए गए है। उन्होने कहा कि सभी चेकपोस्ट स्थलों पर पीने का पानी तथा लू से बचने का समुचित उपाय करे। ऐसे चिकित्सकीय टीम की तैनाती अथवा उपलब्धता स्थानीय बी.एम.ओ द्वारा सुनिश्चित की जाएगी। जिसमे चिकित्सा अधिकारी अथवा ग्रामीण चिकित्सा सहायक को शामिल किया जा सकेगा। टीम को थर्मल गन,बीपी नापने की मशीन ,स्टेथोस्कोप, मास्क , सेनीटाईजर तथा लू से बचाव एवं प्राथमिक उपचार हेतु ओआरएस, पैरासिटामाल , डायरिया से उपचार की दवाई ,सेटरीजीन आदि पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध किया जाना सुनिश्चित कराएं। स्वास्थ्य परीक्षण सामाजिक दूरी का पालन करते हुए कतार में किया जाएं।

प्रारंभिक जांच में कोरोना के लक्ष्ण मिले व्यक्तियों को आइसोलेशन में रखें

कलेक्टर श्री अवनीश कुमार शरण ने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति का स्वास्थ्य परीक्षण कर लक्षण वाले व्यक्तियों को आइसोलेसन में तथा बिना लक्षणों वाले को कवारेंटिन में रखा जाएं। सभी का प्रपत्र अनुसार लाइन लिस्ट तैयार करें। आइसोलेसन तथा कवारेंटिन व्यवस्था हेतु आवश्यक दिशा निर्देश का पालन किया जावे। बायो मेडिकल कचरे का प्रबंधन एवं निपटान हेतु दिशा- निर्देश का पालन किया जाएं।

गंभीर मरीजों जिन्हें अस्पताल में भर्ती करने की जरूरत होने पर एम्बुलेंस की व्यवस्था किया जाए। लक्षण वाले व्यक्ति को अन्य लोगों से पृथक करते हुए आइसोलेसन किया जावे तथा बिना लक्षण वाले उस समूह के पूरे व्यक्तियों को, कवारेंटिंन सेंटर में शिफ्ट किया जावेगा।

ऐसा शिफ्ट, स्वास्थ्य अमले की निगरानी में किया जाना है। इसके लिए सीएमएचओ डाॅ सुरेश तिवारी, सिविल सर्जन डाॅ सुजाॅय मुखर्जी, जिला सर्विलेंस अधिकारी डाॅ गौरव सिंह परिहार, डाॅ आईएस ठाकुर,से संपर्क किया जाएं। उन्हें गंतव्य स्थान के चिह्नित ग्राम स्तर कवारेंटिंन सेन्टर पर, सीईओ जिला अथवा जनपद पंचायत अथवा एस.डी.एम अथवा तहसीलदार से समन्वय कर भेजा जाना है। बिना कोरोना लक्षण वालों को जिस गांव में जाना है, उसी गांव के बाहर चिन्हित स्थान पर रखेंगे। जिनका स्वास्थ्य परीक्षण पुनः स्थानीय स्वास्थ्य अमले ( ए.एन.एम पुरुष स्वास्थ्य संयोजक) द्वारा किया जावेगा। समूह का नियमित सरेवेलेन्स किया जाएगा।

इस दौरान 14 दिन के भीतर यदि लक्षण आते है, तो स्वास्थ्य टीम, जिसमे लैब टेक्नीशियन हों, द्वारा विटीएम सेम्पल लिया जावेगा। जिला प्रशासन द्वारा आने वाले प्रवासी मजदूरों अथवा व्यक्ति की अद्यतन सूचना मुख्य चिकित्सा एवम स्वास्थ्य अधिकारी तथा खंड चिकित्सा अधिकारी को भी उपलब्ध कराया जावे।

आप हमें फ़ेसबुकट्विटरटेलीग्राम और व्हाट्सप्प पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.