कोरोना पॉजिटिव युवक के संपर्क में आए विधायक-महापौर समेत 85 होम क्वारेंटाइन में, क्रिकेट खेला और सैलून खोलकर बनाया बाल-दाढ़ी


बैकुंठपुर.
कोरिया जिले के चिरमिरी हल्दीबाड़ी क्षेत्र में मिला कोरोना पॉजिटिव (Corona positive) युवक बड़े नेताओं का खास बताया जा रहा है। 7 दिन पूर्व उत्तर प्रदेश से लौटने के बाद उसे कोविड अस्पताल क्वारेंटाइन करने की जगह होम क्वारेंटाइन किया गया था। इसके बाद भी युवक होम क्वारेंटाइन के नियमों का उल्लंघन करते हुए पूरे 7 दिन तक इधर-उधर घूमता रहा।

वह विधायक के साथ भी घूमा, क्षेत्र के युवकों के साथ क्रिकेट भी खेली और सैलून खोलकर कई लोगों का बाल-दाढ़ी बनाया व मसाज भी किया। इससे कोरिया जिले में हडक़ंप मच गया है।

फिलहाल स्वास्थ्य विभाग द्वारा युवक के संपर्क में आए विधायक के साथ 85 लोगों की रैपिड टेस्ट किट से जांच की गई, इनमें से सभी की रिपोर्ट निगेटिव आई है। इनमें से के सैंपल रायपुर भेजे गए हैं। फिलहाल सभी को होम क्वारेंटाइन में रखा गया है।

कोरिया जिला छत्तीसगढ़ का नया कोरोना हॉटस्पॉट क्षेत्र बन सकता है। उत्तर प्रदेश से 7 दिन पूर्व लौटे लौटे चिरमिरी के हल्दीबाड़ी क्षेत्र निवासी 28 वर्षीय युवक के कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि 15 मई को हुई है।

युवक को होम क्वारेंटाइन में रखा गया था, इसके बावजूद वह नियमों का उल्लंघन कर 7 दिन तक घूमता रहा। युवक के संपर्क में 100 से भी अधिक लोग आए हैं। इनमें विधायक समेत कई नेता व आम लोग भी शामिल हैं।

फिलहाल विधायक-महापौर समेत 85 लोगों की रैपिड टेस्टिंग किट से जांच के बाद होम क्वारेंटाइन में रखा गया है। वहीं हल्दी बाड़ी इलाके के 3 किमी एरिया को कंटेनमेंट जोन घोषित कर सील कर दिया गया है।

क्रिकेट खेली, सैलून खोलकर बनाया बाल-दाढ़ी
कोरोना पॉजिटिव मिला युवक ने इतनी दबंगई दिखाई कि वह होम क्वारेंटाइन में रहने के बावजूद क्रिकेट खेलता रहा और विधायक समेत अन्य लोगों के साथ घूमता रहा। यही नहीं उसने सैलून की दुकान खोलकर कई लोगों के बाल काटे और दाढ़ी बनाया।

50 लोगों का सैंपल भेजा गया रायपुर
कोरोना पॉजिटिव युवक के संपर्क में आए 85 लोगों में से 50 का सैंपल जांच के लिए रायपुर भेजा गया है, जबकि अन्य की पहचान कर जांच की जा रही है। इधर युवक को अंबिकापुर कोविड अस्पताल भेजा गया है।

अस्पताल की जगह रखा घर में
कोरोना पॉजिटिव युवक को होम क्वारेंटाइन में रखने का निर्णय घातक साबित हो सकता है। इसे स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही कहें या युवक की दबंगई। उत्तर प्रदेश से लौटने के बाद युवक को अस्पताल में क्वारेंटाइन करना था, जबकि उसे होम क्वारेंटाइन किया गया।

आप हमें फ़ेसबुकट्विटरटेलीग्राम और व्हाट्सप्प पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.