कवर्धा कोरोना वारियर: शादी की रस्मों पर भारी फर्ज, कोरोना के चलते ग्रामीण स्वास्थ्य संयोजक ने टाला विवाह


कवर्धा – कोरोना वायरस से मुकाबले में सबसे अहम भूमिका स्वास्थ्य कर्मियो की है। वायरस के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए वे दिन-रात ड्यूटी कर रहे हैं। वर्तमान में लॉकडाउन के चलते उनकी दिनचर्या पूरी तरह बदल गई है।

हेल्थ एंड वेलनेस सेण्टर पथर्रा में पदस्थ राकेश कुमार चन्द्रसेन (बंटी ), ग्रामीण स्वास्थ्य संयोजक के पद पर कार्यरत है | वर्तमान में उनकी ड्यूटी अपने कार्यक्षेत्र के अलावा प्रवासी मजदुरो की घर वापसी में रेलवे स्टेशन में स्क्रीनिंग का कार्य, कोरेनटाइन सेंटर और होम आइसोलेशन में लोगो की स्वास्थ्य जाँच और अगरी (दशरंगपुर ) चेक पोस्ट में कोरोना स्क्रीनिंग की ड्यूटी खंड चिकित्सा अधिकारी डॉ. एस. के. चंद्रवंशी के निर्देशन में लगी हुई है। लॉकडाउन में ड्यूटी के चलते उन्होंने अपनी शादी को टाल दिया है। कोरोना से जंग जीतने के बाद ही उन्होंने शादी के बंधन में बंधने का निर्णय लिया है।

कबीरधाम जिले के सिल्हाटी निवासी राकेश चन्द्रसेन की शादी भिलाई निवासी श्री लाला सेन की सुपुत्री सोनम से तय हुई है । काफी समय पूर्व दोनों परिवारों ने शादी का शुभ मुहर्त निकलवाया था। दोनों की शादी आगामी जून माह को होनी थी। कोरोना महामारी को देखते हुए ने स्वास्थ कर्मी ने अपनी शादी को फिलहाल टाल दिया है।

स्वास्थ्य विभाग कबीरधाम कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए हर सम्भव प्रयास कर रही है। विभाग के हर कर्मचारी अपनी जान का जोखिम लेकर ड्यूटी कर रही है। श्री चन्द्रसेन ने कहा कि पहले फर्ज जरुरी है। इस समय स्वास्थ्य विभाग कोरोना से जंग लड़ रही है। वह अपना फर्ज निभाने के बाद ही शादी करेंगे। उनके इस फैसले की दोनों परिवार के लोगों ने भी सराहना की है।

द भारत लाइव राकेश चन्द्रसेन जैसे व्यक्तियों का सम्मान करता है जो संकट के इस घड़ी में परिवार से पहले देश की चिंता करते है.

भले ही यह न्यूज़ आपको सामान्य/व्यक्तिगत लगी हो लेकिन  अपने व्यक्तिगत जीवन से ज़्यादा दूसरों के लिए सोचना हर किसी की बस की बात नहि है.

आप हमें फ़ेसबुकट्विटरटेलीग्राम और व्हाट्सप्प पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.