NEET-JEE के विरोध में लामबंद हुई प्रदेश कांग्रेस, CM भूपेश ने कहा- परीक्षा न हो यही हमारी कोशिश

रायपुर : NEET और JEE परीक्षा स्थगित करवाने कांग्रेस समेत कई राजनीतिक पार्टियां सड़कों पर उतर आई है. इस बीच छात्रों के समर्थन में कांग्रेस ने आज देशव्यापी धरना प्रदर्शन किया. छत्तीसगढ़ में भी लगभग सभी जिला मुख्यालयों में परीक्षा टालने की मांग को लेकर ‘स्पीक अप फ़ार स्टूडेंट सेफ़्टी’ कार्यक्रम चलाया गया.

 

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा, पूरे देश के लिए यह कठीन समय है. देश अभी कोरोना संकट से जूझ रहा है, लेकिन केंद्र सरकार नीट और जेईई की परीक्षा कराने पर तुली हुई है. मई में होने वाली परीक्षा को टाला गया. अब जब कोरोना संकट के मामले सबसे ज्यादा हैं, ऐसे समय में परीक्षा कराया जाना उचित नहीं है. हम हर संभव कोशिश कर रहे हैं कि परीक्षी न हो. परीक्षा की तिथि आगे बढ़ाई जाए, लेकिन केंद्र सरकार अड़ी हुई है. इसका हम पुरजोर विरोध करते हैं

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने भी ‘स्पीक अप फ़ार स्टूडेंट सेफ़्टी’ पर बोलते हुए PCC चीफ मोहन मरकाम ने कहा कि कोरोना महामारी के समय में परीक्षा कराना छात्रों के लिए जानलेवा साबित हो सकता है. इस समय एग्जाम ठीक नहीं. छात्रों की सुरक्षा के लिए कांग्रेस आवाज़ उठाएगी.

 

पाठ्य पुस्तक निगम और कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा कि मोदी सरकार सत्ता के मद और अहंकार में डूबी हुई है. करोना महामारी के बावजूद JEE और NEET की परीक्षा आयोजित कर लाखों का जीवन खतरे में डाल रही है. इसे लेकर प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों में कांग्रेस ने विरोध जताया. बरसते पानी में कांग्रेसजनों ने जमकर नारेबाजी की और मोदी सरकार के छात्र विरोधी रवैये के खिलाफ प्रदर्शन किया.

शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा, बिहार और असम में बाढ़ के बावजूद घोर लापरवाही और छात्रों की मांग की अनदेखी के खिलाफ कांग्रेसजनों ने मोदी सरकार से मांग की है कि वे अपनी घमंड से बाहर आकर छात्रहित में इन परीक्षाओं को स्थगित करने की छात्रों की मांगों की सुनवाई करें. लाखों छात्रों के जीवन से करोना महामारी के समय खिलवाड़ न करें और NEET-JEE की परीक्षा तत्काल स्थगित की जाए।

 

बता दें JEE की परीक्षा 1 से 6 सितंबर के बीच होगी और NEET की परीक्षा 13 सितंबर को कराई जाएगी. कांग्रेस शासित कई राज्य की सरकार परीक्षा के आयोजन को लेकर सवाल उठा रहे हैं और इसे रोकने की मांग कर रहे हैं. वहीं नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) ने परीक्षाओं के आयोजन की तैयारी भी शुरू कर दी है. 23 लाख में से 17 लाख से अधिक छात्रों ने प्रवेश पत्र भी डाउनलोड कर लिया है.

आप हमें फ़ेसबुकट्विटरटेलीग्राम और व्हाट्सप्प पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.