कोरोना की कड़ी तोड़ने अब हर घर में होगा सर्वे

कलेक्टर श्री शर्मा ने कहा- सामुदायिक सर्वें टीम को सही जानकारी दें, वास्तविक्ता ना छुपाएं
कबीरधाम जिले में 12 अक्टूबर तक चलेगा सामुदायिक सर्वे अभियान

कवर्धा, 06 अक्टूबर 2020। कोरोना संक्रमण के नियंत्रण और उनके रोकथाम के लिए अब हर घर का सर्वे कर हाई रिस्क ग्रुप और लक्षण वाले मरीजों की पहचान सोमवार 5 अक्टूबर से 12 अक्टूबर तक किया जाएगा।


कलेक्टर श्री रमेश कुमार शर्मा ने आम बताया कि राज्य शासन के निर्देशानुसार कोविड-19 कोरोना वायरस के रोकथाम और उनके संक्रमण को रोकने के लिए सोमवार 5 अक्टूबर से सामुदायिक सर्वे शुरू हो गया है। यह सर्वें आगामी 12 अक्टूबर तक चलेगा। कलेक्टर श्री शर्मा ने अपील करते हुए कोरोना वायरस के चैन को तोड़ने के लिए जारी इस सामुदायिक सर्वे अभियान को सफल बनाने के लिए कहा है। उन्होने कहा कि हमारा उद्देश्य शत-प्रतिशत घरों का सर्वे करते हुए कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकना है। कोरोना संक्रमण को रोकने प्रशासन को आमजनों का सहयोग चाहिए। उन्होने कहा कि सर्वें के दौरान जब स्वास्थ्य अमला आपके घर पर पहुंचे तो, उन्हे सही और वास्तविक जानकारी दें। किसी भी प्रकार की जानकारी ना छुपाएं। यह सर्वें आपके और आपके परिवार और जहां आप निवास करते है, उस मुहल्ला अथवा कालोनी को सुरक्षित करने का एक साझा प्रयास है। उन्होने कहा कि कोरोना के लक्षणों की जानकारी मिलते ही त्वरित सैम्पल लेकर जांच कराई जाएगी। सही समय पर बीमारी की पहचान होने से इलाज में आसानी होगी और जल्दी रिकवर हो पाएंगे। सही समय पर जांच नहीं होने से बीमारी और विकराल रूप ले लेती है और मरीज की मृत्यु भी हो सकती है। कोविड-19 से मृत्यु रोकने के लिए सही समय और जांच और इलाज अनिवार्य है।

कोरोना वायरस के ये हैं लक्षण

यदि किसी को भी सर्दी, खाँसी, बुखार, शरीर मे दर्द, सांस लेने में दिक्कत, उल्टी दस्त, स्वाद एवं सूंघने की शक्ति में कमी हो तो ये कोरोना के लक्षण हो सकते हैं। ऐसा होने पर तत्काल नजदीकी फीवर क्लिनिक में जाकर जांच कराएं और कंट्रोल रूम के नम्बरों पर सम्पर्क करें। जिला स्तर पर कंट्रोल रूम स्थापित किए गए गए हैं जिनके नम्बर हैं 07741232078 और होम आईसोलेशन जिला कन्ट्रोल रूम का नम्बर 8085145441 है।

उच्च जोखिम वाले मरीजों का रखे विशेष ख्याल

आपके परिवार में उच्च जोखिम वाले व्यक्ति-सदस्य जैसे 60 वर्ष से अधिक उम्र, गर्भवती महिला, 5 वर्ष के कम आयु के बच्चे, उच्च रक्तचाप डाइबिटिज, कैंसर, किडनी रोग, टीबी रोग, सिंकलसेल से ग्रहित व्यक्तियों की विशेष निगरानी एवं जांच की आवश्यकता पड़ सकती है। ऐसे व्यक्तियों को सही समय पर कोरोना संक्रमण से सुरक्षा और समय पर उपचार देकर स्वस्थ्य जीवन दिया जा सकता है। कलेटर श्री शमा ने कहा कि अगर आपके घर पर ऐसे सदस्य है, तो सर्वें टीम को सही-सही जानकारी देकर एक जिम्मेदार नागरिक होने का फर्ज निभाए।

घर घर जाएगी टीम, 24 घंटे के अंदर लिए जाएंगे सैम्पल


उल्लेखनीय है कि जिले के शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में मरीजों की पहचान के लिये 5 से 12 अक्टूबर तक सामुदायिक सर्वे अभियान चलाया जा रहा है। हमारी मितानिन, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताएं, सहायिकाएं, नगर पालिका के अमले, स्वास्थ्य कर्मी शत-प्रतिशत घरों का सर्वे कर रहे है। लक्षण की पहचान होते ही 24 घन्टे के अंदर सैम्पल लिए जाएंगे। सबसे पहले रैपिड एंटीजन टेस्ट किया जाएगा यदि लक्षण के बाद भी टेस्ट नेगेटिव है, तो आरटीपीसीआर टेस्ट करवाया जाएगा। यदि रैपिड टेस्ट पॉजिटिव है, तो विशेषज्ञ डॉक्टर ये निर्णय लेंगे कि मरीज को होम आइसोलेशन में रखना है अथवा अस्पताल में भर्ती किया जाएगा।

टीम को मानने होंगे प्रोटोकॉल–

सर्वे टीम को पूरी सावधानी के साथ सर्वे करना है। मास्क का उपयोग, सोशल डिस्टेंसिंग और हैण्ड सेनेटाइजर करना होगा। इसके अलावा टीम हर घर के सर्वे के बाद लोगों को नजदीकी फीवर क्लिनिक एयर कंट्रोल रूम की भी जानकारी लोगों को देगी ताकि आपात स्थिति में संपर्क किया जा सके।

आप हमें फ़ेसबुकट्विटरटेलीग्राम और व्हाट्सप्प पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.