डीजे बुकिंग हुई शुरू, लेकिन बरातियों के लिए नहीं बल्कि टिड्डियों के लिये…


कवर्धा  :-  कोरोना की वजह से शादियों और अन्य समारोह में डीजे की बुकिंग लेने वालों का काम ठप हो गया है, वहीं अब प्रदेश में डीजे की धुन फिर से सुनाई देने वाली है। लेकिन इस बार ये डीजे बारातियों के स्वागत के लिए नहीं बल्कि टिड्डियों के लिए बजाए जाएंगे।

जी हां इस बार लोगों के स्वागत की जगह टिड्डियों को भगाने के लिए इनकी बुकिंग की जा रही है। कवर्धा के लोहारा में पहला डीजे बुक भी किया जा चुका है। वहीं विशेषज्ञों की मानें तो टिड्डियों के एक दल में करोड़ों की संख्या में टिड्‌डी शामिल होते है। ऐसे में इन्हें भगाने के लिए महज डीजे का उपयोग किया जाए ये बात लोगों को हजम नहीं हो रही है।

गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ में पहली बार पाकिस्तानी टिड्डियों के बड़े हमले की आशंका जताई गई है। इससे पहले टिड्डियां राजस्थान से मध्यप्रदेश के कई जिलों में प्रवेश कर फसलों नुकसान पहुंचा चुकी हैं। अब ये दल छत्तीसगढ़ में प्रवेश करने वाला है। केंद्रीय एकीकृत नाशीजीव प्रबंधन केंद्र की ओर से जारी की गई सूचना के अनुसार कवर्धा जिले के सहसपुर लोहारा ब्लॉक के बिरोड़ा गांव में टिडि्डयों का हमला हो सकता है। सहसपुर लोहारा ब्लॉक में करीब 4 हजार हेक्टेयर में उद्यानिकी व 2 हजार हेक्टेयर के आसपास गन्ना की फसल है। यहीं से ये टिड्डियां हवा के रूख के मुताबिक प्रदेश में आगे बढ़ेंगी। अनुमान के मुताबिक यह दल मंगलवार का सुबह करीब 7 बजे बिरोड़ा के आसपास पहुंचता, लेकिन हवा के प्रभाव बदलने के कारण अभी तक नहीं पहुंच सका। टिड्डियों का दल प्रवेश करने से पहले जिला प्रशासन द्वारा तैयारी शुरू की जा चुकी है।

इस जानकारी के बाद एक ओर जहां जिला प्रशासन और कृषि विभाग ने टिड्डियों के दल से निपटने तैयारी शुरू कर दी है। वहीं शोर से टिड्डियों के भागने की खबर मिलने पर लोहारा में डीजे भी बुक किया गया है। इसके साथ ही नगर पालिका कवर्धा व नगर पंचायत के फायर बिग्रेड को पहले से अलर्ट रखा गया है। कीटनाशक का भी छिड़काव किया जा रहा है। फसल के नुकसान होने पर किसानों को मुआवजा मिलेगा। इसके लिए सरकार पहले ही घोषणा कर चुकी है।

वहीं कबीरधाम जिले में आने के बाद हवा की स्थिति उत्तर की ओर हुई तो मुंगेली, बिलासपुर जिले के साथ मध्यप्रदेश के डिंडौरी, शहडोल जिले और दक्षिण की ओर रहीं तो राजनांदगांव जिले, पूर्व की ओर रहीं तो बेमेतरा, दुर्ग, रायपुर जिले और पश्चिम की ओर हवा की स्थिति रही, तो मध्यप्रदेश के बालाघाट व मंडला जिले में प्रवेश कर सकते हैं।

साभार : सूरज मानीकपूरी छग आज

आप हमें फ़ेसबुकट्विटरटेलीग्राम और व्हाट्सप्प पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.