CM उद्धव ठाकरे को जान से मारने की धमकी, दुबई से दाऊद के नाम पर आया फोन

मुंबई. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को फोन पर जान से मारने की धमकी मिली है. प्राप्त जानकारी के मुताबिक मातोश्री के लैंडलाइन पर तीन से चार बार फोन आया. फोन करने वाले शख्स ने खुद को दाउद इब्राहिम का आदमी बताया है. धमकी देने वाले शख्स ने बम से उड़ाने की धमकी दी है. मुंबई पुलिस जांच में जुटी है. ठाकरे को धमकी मिलने के बाद से मातोश्री की सुरक्षा बढ़ाई गई है. प्राप्त जानकारी के मुताबिक शनिवार रात को करीब साढ़े 10 बजे के करीब फोन आया था. बता दें उद्धव ठाकरे का घर मातोश्री मुंबई के बांद्रा इलाके में है. फोन करने वाले शख्स ने कहा कि वह ठाकरे के घर को बम से उड़ा देगा.

मुंबई पुलिस के मुताबिक मातोश्री में ऑपरेटर को शनिवार रात करीब साढ़े 10 बजे दो फोन आए थे. फोन पर दूसरी तरफ से बात कर रहे शख्स को खुद को दाऊद का आदमी बताया और ठाकरे के आवास मातोश्री को बम से उड़ाने की धमकी दी. इस धमकी के बाद मातोश्री की सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है और भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती कर दी गई है.

शिवसेना प्रमुख और महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे राज्य के 19वें मुख्यमंत्री हैं. उद्धव ठाकरे ने 2019 में सीएम पद की शपथ ली थी. कद्दावर नेता रहे बालासाहेब ठाकरे के बेटे उद्धव साल 2002 में राजनीति में आए थे और वह ठाकरे परिवार के पहले सदस्य हैं जो कि राज्य के मुख्यमंत्री बने हैं. उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे महाराष्ट्र सरकार में मंत्री हैं.

बता दें महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे राज्य में तेजी से बढ़ रहे कोरोना वायरस को लेकर नजर बनाए हुए हैं. ठाकरे ने शनिवार को कहा कि मुंबई में पिछले दो दिन में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों की संख्या में वृद्धि से यह पता चलता है कि राज्य सरकार को आगामी दो से तीन महीने में संक्रमण को रोकने के लिए कड़ी चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा.

राज्य में कोविड-19 की स्थिति की समीक्षा बैठक में ठाकरे ने यह बात कही. उन्होंने कहा, “जब प्रतिदिन संक्रमण के 1000-1100 मामले सामने आ रहे थे तब हमें लगा कि हम वायरस के प्रसार के शिखर पर हैं. लेकिन पिछले दो दिन में प्रतिदिन होने वाली वृद्धि 1700-1900 के बीच थी. इसलिए अगले तीन महीने चुनौतीपूर्ण होंगे और हमें इससे प्रभावी रूप से निपटना होगा.

ठाकरे ने कहा कि मुंबई में 5000-6000 बिस्तर की और व्यवस्था करनी होगी और प्रशासन को ऑक्सीजन और आईसीयू सुविधा के लिए योजना बनानी होगी.

आप हमें फ़ेसबुकट्विटरटेलीग्राम और व्हाट्सप्प पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.