बड़ी खबर : कैबिनेट मंत्री की कोरोना से मौत, एक सप्ताह से एम्स में चल रहा था इलाज, सीएम ने जताया शोक

पटना। बिहार की नीतीश सरकार में पंचायती राज मंत्री व जनता दल यूनाइटेड के कद्दावर नेता कपिलदेव कामत का कोरोना संक्रमण के कारण निधन हो गया है। पटना के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में देर रात उन्होंने अंतिम सांस ली। वे करीब एक सप्ताह से एम्स में भर्ती थे। दो दिनों से उनकी स्थिति बेहद खराब थी। कपिलदेव कामत के निधन पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सहित कई नेताओं व अन्य लोगों ने शोक व्यक्त किया है।

एक सप्ताह से पटना एम्स से चल रहा था इलाज

मंत्री कपिलदेव कामत को एक सप्ताह पहले कोरोना संक्रमण के कारण पटना एम्स में भर्ती कराया गया था। वे पहले से किडनी के रोग से ग्रसित थे। उनका लगातार डायलिसिस भी किया जा रहा था। स्थिति खराब होने पर उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था। डॉक्टरों की टीम उनपर लगातार नजर बनाए हुए थी, लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका।

खराब तबीयत को देख बहू को बनाया है प्रत्याशी

कपिलदेव कामत 10 साल से मंत्री थे। वे बीते 40 साल से सक्रिय राजनीति में थे, लेकिन बीते कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के करीबी माने जाने वाले कपिलदेव कामत के स्वास्थ्य को देखते हुए जेडीयू ने बिहार विधानसभा चुनाव में उनकी मधुबनी के बाबूबरही सीट पर उनकी बहू मीना कामत को अपना प्रत्याशी बनाया है।

निधन पर शोक संदेशों का लगा तांता

कपिलदेव कामत के निधन पर शोक संदेश कां तांता लगा हुआ है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि उनके असामयिक निधन से राजनीतिक एवं सामाजिक क्षेत्रों में अपूरणीय क्षति हुई है। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दें। उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने भी कामत की मौत को दुर्भाग्यपूर्ण व अपूरणीय क्षति बताया है।

आप हमें फ़ेसबुकट्विटरटेलीग्राम और व्हाट्सप्प पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.