पुलिस से बनेंगे राजनेता! समय से पहले DGP ने यूं ही नौकरी नहीं छोड़ी है

नई दिल्ली : बिहार के पुलिस महानिदेशक (DGP) ने समय से पहले ही रिटायरमेंट ले लिया है. DGP गुप्तेश्वर पांडेय की स्वैच्छिक सेवानिवृति यानि VRS को बिहार सरकार ने भी मंजूर कर लिया है. वहीं आने वाले दिनों में बिहार में विधानसभा चुनाव भी होने हैं. इसलिए ऐसी अटकलें है कि DGP साहब अब पुलिस के बाद राजनेता बनने की राह पर हैं, लेकिन इन अटकलों की वजह क्या हो सकती है?

दरअसल यह पहला मौका नहीं है जब DGP गुप्तेश्वर पांडेय ने VRS लेने का फैसला लिया हो. इससे पहले भी 2009 में उन्होंने बड़ा रिस्क लिया था. उनकी नौकरी करीब 11 साल बची थी तब उन्होंने इस्तीफा दिया था. ऐसे में इस बार नो रिस्क के तहत इन्होंने इस्तीफा दिया है.

बता दें कि DGP गुप्तेश्वर पांडेय 1987 बैच के IPS हैं. उन्होंने जनवरी 2019 में बिहार के पुलिस महानिदेशक की जिम्मेदारी संभाली थी. बतौर डीजीपी उनका कार्यकाल 28 फरवरी 2021 तक था, लेकिन उन्होंने मंगलवार को कार्यकाल पूरा होने से पहले VRS ले लिया है. ऐसे में पांडे के VRS के राजनीतिक मायने निकाले जा रहे हैं, क्योंकि इससे पहले भी गुप्तेश्वर पांडे ने VRS लिया था, वह लोकसभा चुनाव का मौसम था और इस बार बिहार विधानसभा का बिगुल बज गया है.

आप हमें फ़ेसबुकट्विटरटेलीग्राम और व्हाट्सप्प पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.