राज्य ने 29 मई तक बढ़ाया लॉकडाउन, शाम 7 बजे से पूरे राज्य में जारी रहेगा कर्फ्यू

देश में जारी कोरोना संकट के बीच तेलंगाना में लॉकडाउन को 29 मई तक के लिए बढ़ा दिया गया है. मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने इसकी घोषणा की. देश में कोविड-19 के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए जो लॉकडाउन लागू है वह 17 मई तक ही है लेकिन तेलंगाना में इसे बढ़ाकर 29 मई तक कर दिया है. ऐसा करने वाला तेलंगाना देश का पहला राज्य है.

वहीं तेलंगाना में लॉकडाउन बढ़ाने के साथ-साथ वहां कई नए दिशा निर्देश भी जारी किए गए हैं. 7 घंटे की कैबिनेट बैठक के बाद मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने कहा, “लोग चाहते हैं कि लॉकडाउन को बढ़ाया जाए. मैंने प्रधानमंत्री को अपने फैसले के बारे में सूचित कर दिया है.”

चंद्रशेखर राव ने कहा कि केंद्र सरकार की तरफ से रेड जोन में भी दुकानें खोलने के आदेश हैं लेकिन हम हैदराबाद, मेड़चल, सूर्यपेट, विकाराबाद में कोई भी दुकान नहीं खोल रहे हैं.

इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि लोगों को शाम 6 बजे तक जरूरी सामानों की खरीद पूरी कर लेनी चाहिए और उन्हें अपने घर पहुंच जाना चाहिए. शाम 7 बजे से राज्य में कर्फ्यू रहेगा. अगर किसी को बाहर पाया जाता है, तो पुलिस कार्रवाई करेगी.

इसके अलावा तेलंगाना सरकार ने मंगलवार को आदेश जारी करके कक्षा एक से नौंवी तक के सभी छात्रों को बिना किसी वार्षिक परीक्षा के अगली कक्षाओं में प्रमोट कर दिया. सरकारी आदेश में कहा गया है कि यह फैसला मुख्यमंत्री की तरफ से कक्षा नौ तक के सभी छात्रों को अगली कक्षा में प्रमोट करने की घोषणा के बाद लिया गया, क्योंकि शैक्षणिक वर्ष 2019-20 के लिए योगात्मक मूल्यांकन परीक्षाएं कोरोना वायरस फैलने को रोकने के लिए लागू लॉकडाउन के चलते नहीं ली जा सकीं.

तेलंगाना में कोरोना वायरस के अब तक कुल 1096 मामले सामने आ चुके हैं. इसमें से 628 मरीज इलाज के बाद रिकवर हो चुके हैं. मंगलवार को राज्य में 11 नए मामले सामने आए हैं. अब तक राज्य में कुल 439 एक्टिव केस हैं. राज्य में इस महामारी से अब तक 29 लोगों की मौत हो चुकी है. तेलंगाना के 33 जिलों में से हैदराबाद, मेडचल, रंगारेड्डी में कोरोना वायरस का संक्रमण सबसे ज्यादा है. राज्य के 66% केस इन्हीं तीन जिलों में सामने आए हैं.

चंद्रशेखर राव ने कहा, “प्रदेश के छह ज़िले रेड ज़ोन में हैं लेकिन अगले हफ्ते तक हैदराबाद, मेडचल और रंगारेड्डी को छोड़कर बाकी तीन ज़िले ऑरेंज ज़ोन में आ सकते हैं. नए मामले भी इन्हीं तीन ज़िलों से आ रहे हैं.”

आप हमें फ़ेसबुकट्विटरटेलीग्राम और व्हाट्सप्प पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.